Headline

अगर बीजेपी दोबारा केंद्र की सत्ता में लौटती है तो राज्य सरकार का भविष्य क्या होगा'?

Medhaj News 4 May 19 , 06:01:39 Governance
kamal_nath.jpg

चुनावों के इस कोलाहल के बीच वोटरों के दिमाग में कई सारी भ्रांतियां हैं | लेकिन मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ को एक अलग ही किस्म के धर्मसंकट का सामना करना पड़ रहा है | ऐसी धारणा बन रही है कि उनकी सरकार अनिश्चितता से ग्रस्त है | वल्लभ भवन पर संशय के गहरे बादल मंडरा रहे हैं | सरकारी फाइलों के वितरण को लेकर सभी सरकारी बाबुओं के अवचेतन मन में एक ही बात चल रही है, 'होगा या नहीं होगा' | सरकारी गलियारों में इस बात को लेकर अटकलबाज़ियां चल रही हैं कि अगर बीजेपी दोबारा केंद्र की सत्ता में लौटती है तो राज्य सरकार का भविष्य क्या होगा | पिछले विधानसभा चुनावों में शिवराज सिंह चौहान की बीजेपी सरकार को हार का सामना करना पड़ा | इस परिस्थिति पर चौहान कहते हैं, 'हम क्या करें अगर कमलनाथ सरकार खुद अपने ही भार से दब रही है | ' हार के बाद शिवराज सिंह चौहान ने किसी भी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया था और अब वो लगातार लोगों के बीच जा रहे हैं | दोनों तरफ से कुछ नेता इस बात पर दांव लगाने को तैयार हैं कि लोकसभा चुनावों के परिणाम घोषित होने के दिन यानी 23 मई तक ही कमलनाथ सरकार सत्ता पर काबिज़ रह पाएगी | चौहान के राज में लंबे समय तक काम कर चुके एक वरिष्ठ नौकरशाह कहते हैं, 'पूरी सरकार डर में चल रही है कि मोदी के दोबारा सत्ता में आने पर बीजेपी विधायकों को तोड़ ना ले | मायावती ने भी कमलनाथ की मुश्किलें बढ़ा रखी हैं | वो पूरी तरह आग बबूला हो गईं जब गुना लोकसभा सीट से बीएसपी प्रत्याशी लोकेंद्र सिंह राजपूत को गुना से कांग्रेस के मौजूदा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की वजह से चुनाव लड़ने नहीं दिया गया | उल्टा उन्हें सिंधिया का समर्थन करने को कहा गया | कांग्रेस की तरफ से बीएसपी प्रत्याशी को डराने का आरोप लगाते हुए बीएसपी सुप्रीमो ने मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार को समर्थन जारी रखने के फैसले पर दोबारा विचार करने की धमकी दी है | मायावती की धमकी के बाद मध्यप्रदेश में हालात बेहद खराब हुए | लेकिन उससे पहले भी वहां सबकुछ ठीक नहीं था | दो सबसे शक्तिशाली कांग्रेस नेताओं - दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया में से सिंधिया इस बात के लिए तैयार हैं कि अगर हालात ऐसे हुए तो वो कमलनाथ की सरकार गिराने में नहीं हिचकेंगे |


    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like