Headline


मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने अपने बयान में अपने पुलिस बल की पीठ थपथपाई

Medhaj News 2 Sep 19 , 06:01:39 Governance
yogi_5.png

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने अपने बयान में अपने पुलिस बल की पीठ थपथपाई और उनके कार्यों को समाज हित में किया जा रहा सराहनीय प्रयास घोषित करते हुए उसके फलस्वरूप अपराध दमन के सटीक आंकड़े प्रस्तुत किये | उत्तर प्रदेश सरकार की अटल इच्छाशक्ति और उत्तर प्रदेश पुलिस के अथक प्रयासों के बाद उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था में तेजी से सुधार होता दिखाई दे रहा है | बाकि प्रदेशो के मुकाबले उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण , डकैती , जबरन कब्जे आदि जैसे अपराध तेजी से घटे हैं |  यहाँ तक कि डाकुओं के जो गिरोह दशको से जमे हुए थे उनको उखाड़ फेंका गया है | उत्तर प्रदेश सरकार के अनुसार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व व निर्देशन में माफियाओं एवं अपराधियों के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट की कार्यवाही करते हुए उनके द्वारा अवैध रुप से अर्जित लगभग 01 अरब, 94 करोड़, 48 लाख रुपए की अवैध सम्पत्ति की ज़ब्त की जा चुकी है | इतना ही नहीं एक अन्य आंकड़े के अनुसार विगत ढाई वर्ष के कार्यकाल में पुलिस और अपराधियों के बीच 4,458 मुठभेड़ें हुईं, जिनमें 9,833 अपराधी गिरफ्तार किए गए, 1,484 घायल हुए तथा 94 अपराधी पुलिस की आत्मरक्षार्थ कार्रवाई में मारे गए | इसी क्रम में वर्ष 2018 में डकैती, बलात्कार,हत्या, अपहरण, लूट जैसे अपराधों में उल्लेखनीय कमी आयी है। डकैती में 42.63 प्रतिशत, बलात्कार में 7.63 प्रतिशत, हत्या में 7.08 प्रतिशत, लूट में 22.1 प्रतिशत व फिरौती-अपहरण में 30.43 प्रतिशत की कमी आयी है | मुख्यमंत्री के हवाले से उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से जारी आधिकारिक बयान के अनुसार विगत दो-ढाई वर्ष के दौरान ने 75,000 से भी अधिक पुलिसकर्मियों की भर्ती की है। लगभग 50,000 से अधिक पुलिसकर्मियों की निष्पक्ष भर्ती प्रक्रिया अभी भी चल रही है | लेकिन कोई भी यह नहीं कह सकता कि पुलिस भर्ती के नाम पर किसी ने उससे पैसे मांगे हैं.. आतंक दमन के लिए ATS और अपराध दमन के लिए STF के सशक्तिकरण से प्रदेश सरकार को राज्य में राष्ट्रविरोधी गतिविधियों पर प्रभावी अंकुश लगाने में महत्वपूर्ण सहयोग प्राप्त हुआ है | मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमें पुलिस के उस चेहरे को बदलना है, जो अंग्रेजों से हमें विरासत में मिला है। आज पब्लिक फ्रेंडली पुलिस की आवश्यकता है। जिससे अपराधी, समाज विरोधी और राष्ट्र विरोधी तत्व तो भय खाएं, लेकिन आमजन के मन में श्रद्धा एवं सम्मान का भाव जागृत हो | इसी के साथ उन्होंने कहा कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में अपराध की प्रकृति में बदलाव आया है। मुख्यमंत्री के अनुसार ऐसी स्थिति में महत्वपूर्ण है कि आधुनिक तकनीक के अनुरूप हम खुद में कितना परिवर्तन ला पाते हैं |  इसी में आगे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज साइबर क्राइम के नए-नए तरीके सामने आ रहे हैं तब हमारा पुलिस बल भी उसके लिए प्रशिक्षित हो सके, इसके लिए ने लखनऊ में पुलिस एवं फॉरेंसिक यूनिवर्सिटी बनाने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया है |


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends