Headline



मंगलवार को है अक्षय नवमी, जिसका फल होता है अक्षय

Medhaj News 4 Nov 19,23:18:53 World
Akshay_tritiya.jpg

मंगलवार, 5 नवंबर को कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी है। इस तिथि को आंवला नवमी कहा जाता है। इसे अक्षय नवमी भी कहते हैं। इस दिन आंवले के वृक्ष की पूजा की जाती है। पुरानी मान्यता है जो लोग इस नवमी पर आंवले की पूजा करते हैं, उन्हें देवी लक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है।उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार इस दिन पानी में आंवले का रस मिलाकर स्नान करने की परंपरा भी है। ऐसा करने से हमारे आसपास से नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है, सकारात्मक ऊर्जा और पवित्रता बढ़ती है, साथ ही ये त्वचा के लिए भी बहुत फायदेमंद है। आंवले के रस के सेवन से त्वचा की चमक भी बढ़ती है।

आंवला नवमी के संबंध में कथा प्रचलित है कि प्राचीन समय में कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि पर देवी लक्ष्मी ने आंवले के वृक्ष के नीचे शिवजी और विष्णुजी की पूजा की थी। तभी से इस तिथि पर आंवले के पूजन की परंपरा शुरू हुई है।

आयुर्वेद के अनुसार आंवला सेहत के लिए वरदान है। इसके नियमित सेवन से आयु बढ़ती है और बीमारियों से रक्षा होती है। पं. शर्मा के अनुसार आंवले के रस का धार्मिक महत्व भी है। मान्यता है कि नियमित रूप से पीने से पुण्य में बढ़ोतरी होती है और पाप नष्ट होते हैं। पीपल, तुलसी की तरह ही आंवला भी पूजनीय और पवित्र माना गया है और इसी वजह से आंवला नवमी पर इसकी पूजा की जाती है।

अक्षय नवमी की पूजा विधि



सबेरे जल्दी उठकर स्नान करें।

आँवले के पेड़ के आसपास साफ-सफाई करें।

पेड़ की जड़ पर स्वच्छ जल चढ़ाएं।

इसके पश्चात वृक्ष को दूध चढ़ाएं।

अब पेड़ की पूजा करें।

वृक्ष की तने पर कच्चा सूत या मौली को 8 बार परिक्रमा करते हुए लपेटे।

अब सुखी जीवन की कामना करें।

अब पेड़ नीचे बैठकर परिवार के साथ प्रसाद ग्रहण करें।



 


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends