Headline



विजय माल्या के स्वामित्व वाले किंगफिशर हाउस की नीलामी कल

Medhaj News 26 Nov 19 , 06:01:39 Business & Economy
vijay_malya.jpg

भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या (Vijay Mallya) के स्वामित्व वाला किंगफिशर हाउस (Kingfisher House) तीन साल में एक बार फिर 8वीं बार नीलामी के लिए रखा गया है | फिलहाल, किंगफिशर हाउस डिफंक्ट किंगफिशर एयरलाइंस लिमिटेड (KAL) का मुख्यालय है | इस संपत्ति की 27 नवंबर को ऑनलाइन नीलामी की जाएगी | संपत्ति की पहली नीलामी के दौरान 135 करोड़ रुपये के रिजर्व प्राइस से नीलामी शुरू हुई थी | 2016 में लगभग 150 करोड़ रुपये का मूल्य था | इस बार 8वीं नीलामी के लिए 60 फीसदी की तेज गिरावट के साथ रिजर्व प्राइस केवल 54 करोड़ रुपये से कम पर निर्धारित है | इमारत को मूल रूप से पैराडिगम के नाम से जाना जाता है और बाद में इसे किंगफिशर हाउस कर दिया गया | इसमें एक बेसमेंट, एक अपर ग्राउंड फ्लोर, एक ग्राउंड फ्लोर और एक अपर फ्लोर है, जिसे बेचा जाना है |





इसका कुल मापन 1,586 वर्ग मीटर है | यह छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरार्ष्ट्रीय हवाई अड्डे (सीएसएमआईए) के बाहर एक प्रतिष्ठित स्थान में लगभग 2,402 वर्ग मीटर की दूरी पर स्थित है | माल्या पर बैंकों का लगभग 9400 करोड़ रुपए बकाया है |  अभी करीब 1800 करोड़ रुपए के विलफुल डिफॉल्टर हैं | बाकी बैंक अब भी माल्या के खिलाफ कोर्ट नहीं गए हैं | साल 2005 में विजय माल्या ने किंगफिश एयरलाइंस की शुरुआत की थी | उनका किंगफिशर एयरलाइंस को एक बड़ा ब्रैंड बनाने का सपना था | इसीलिए माल्या ने साल 2007 में देश की पहली लो कॉस्ट एविएशन कंपनी एयर डेक्कन का टेकओवर किया था | इसके लिए उन्होंने 30 करोड़ डॉलर यानी 1,200 करोड़ रुपए (2007 में 1 डॉलर लगभग 40 रुपए के बराबर था) की भारी रकम खर्च की थी | साल 2007 में किया गया एक सौदा माल्या के लिए सबसे बड़ी गलती साबित हुआ | इस सौदे के पांच साल के भीतर माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस बंद हो गई और उनका पूरा कारोबारी साम्राज्य लगभग खत्म हो गया |


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends