Headline

एयरलाइन कंपनी जेट एयरवेज को आखिरकार इमरजेंसी फंड मिल गया

Medhaj News 8 May 19 , 06:01:39 Business & Economy
Jet_Airways.jpg

पैसे के संकट से जूझ रही एयरलाइन कंपनी जेट एयरवेज को आखिरकार नरेश गोयल ने इमरजेंसी फंड दे दिया है | फंड न होने की वजह से कंपनी का कामकाज पूरी तरह ठप था | कंपनी को यह फंड किसी और से नहीं बल्कि फाउंडर नरेश गोयल से मिली है | नरेश गोयल ने एयरलाइन कंपनी को 250 करोड़ रुपए दिए हैं | इसी के साथ जेट एयरवेज की रिकवरी की उम्मीद जगी है | एयरलाइन कंपनियां पिछले कई महीनों से बैंकों से इमरजेंसी फंड मांग रही थी | लेकिन कोई भी बैंक जेट एयरवेज को फंड देने के लिए तैयार नहीं था | कंपनी को फंड मुहैया कराने के साथ ही नरेश गोयल ने कर्मचारियों को एक इमोशनल लेटर भी लिखा था | फ्यूचर ट्रेंड और आदि पार्टनर्स ने पहले जेट एयरवेज के फाउंडर नरेश गोयल के साथ मिलकर एयरलाइन में दिलचस्पी जताई थी | रेडक्लिफ कैपिटल ने थिंक कैपिटल के साथ मिलकर एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट दिया था | लेकिन इनमें से किसी को भी बैंक ने बोली लगाने की इजाजत नहीं दी थी | ब्रिटिश आंत्रप्रेन्योर जैसन अन्सवर्थ ने पहले जेट एयरवेज के सीईओ विनय दुबे को लिखा था कि वह संकट में घिरी जेट एयरवेज को खरीदना चाहते हैं | अन्सवर्थ ने कहा, हमने 7 मई की रात अपनी बोली सौंपी है | अन्सवर्थ ने लक्ष्य उत्तम के साथ मिलकर यह बोली लगाई है |





अन्सवर्थ ने लक्ष्य उत्तम के साथ मिलकर यह बोली लगाई है | उत्तम माय वर्ल्ड वेंचर्स के फाउंडर हैं | एम्सटर्डम की यह कंपनी हॉस्पिटैलिटी और एविएशन सेक्टर के लिए काम करती है | उत्तम ने कहा, हम नरेश गोयल के संपर्क में भी हैं | इन दोनों निवेशकों की बोली जेट एयरवेज की रिकवरी के लिए काफी अहम है | 10 मई जेट एयरवेज में बोली लगाने की आखिरी तारीख है | और अभी तक कोई भी कंपनी बोली लगाने के लिए सेलेक्ट नहीं हो पाई थी | उनसवर्थ और उत्तम की बोली ऐसे समय में आई है जब जेट की सारी उम्मीदें खत्म हो चुकी थीं | यह जेट के कर्मचारियों के लिए भी बहुत राहत की खबर हैं |



बिडिंग एलिजिबिलिटी शर्तों के मुताबिक जेट एयरवेज के लिए वही कंपनी बोली लगा सकती है जिसका नेटवर्क 1000 करोड़ या एविएशन सेक्टर में कम से कम 3 साल के कामकाज का अनुभव हो | फाइनेंशियल इन्वेस्टर्स के लिए शर्त यह है कि उनका मिनिमम एसेट अंडर मैनेजमेंट यानी AUM 2000 करोड़ रुपए का हो और कम से कम 1000 करोड रुपए का निवेश भारतीय कंपनियों में हो |


    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like