जानें, कन्या पूजन का महत्व और कारण...

Medhaj news 17 Oct 18,18:23:26 Lifestyle
navratri.jpg

शारदीय नवरात्रि की अष्टमी 17 अक्टूबर और नवमीं 18 अक्टूबर को मनाई जा रही है | 10 अक्टूबर से हुए शुरू नवरात्रि के आखिरी दो दिनों में कन्या पूजन की परपंरा होती है | कन्या पूजन के लिए सभी घरों में काफी दिनों पहले से ही तैयारियां शुरू हो जाती हैं | अष्टमी और नवमीं वाले दिन कन्याओं को हलवा, पूरी और चने का भोग लगाने के साथ-साथ उन्हें तोहफे और लाल चुनरी उड़ाना भी शुभ माना जाता है | लेकिन यह काम शुभ मुहूर्त पर हो तब | नवरात्र में विशेष तौर पर मां के विभिन्‍न स्‍वरूपों की पूजा का विधान है | लेकिन अष्टमी और नवमी के दिन कन्याओं की पूजा का विशेष महत्‍व बताया गया है | इस दिन दो साल से लेकर 10 साल की बच्चियों की पूजा की जाती है | अलग-अलग उम्र की कन्याएं देवी के अलग-अलग रूप को दर्शाती हैं | नौ कन्याओं को नौ देवियों के प्रतिबिंब के रूप में पूजने के बाद ही भक्तों का नवरात्र व्रत पूरा होता है |

जानें, अष्टमी के दिन कन्या पूजन का शुभ मुहूर्त क्या है?

पहला मुहूर्त- सुबह 6 बजकर 28 मिनट से 9 बजकर 20 मिनट तक |

दूसरा मुहूर्त- सुबह 10 बजकर 46 मिनट से दोपहर 12 बजकर 12 मिनट तक |

जानें, नवमी के दिन कन्या पूजन का शुभ मुहूर्त क्या है?

पहला मुहूर्त- सुबह 6 बजकर 29 मिनट से 7 बजकर 54 मिनट तक |

दूसरा मुहूर्त-सुबह 10 बजकर 46 मिनट से दोपहर 3 बजकर 3 मिनट तक |

कन्याओं की आयु दो वर्ष से ऊपर तथा 10 वर्ष तक होनी चाहिए और इनकी संख्या कम से कम 9 तो होनी ही चाहिए और एक बालक भी होना चाहिए, जिसे हनुमानजी का रूप माना जाता है | जिस प्रकार मां की पूजा भैरव के बिना पूर्ण नहीं होती है, उसी तरह कन्या-पूजन के समय एक बालक को भी भोजन कराना बहुत जरूरी होता है | यदि 9 से ज्यादा कन्या भोज पर आ रही है तो कोई आपत्ति नहीं है |

ये भी पढ़े - पीएम मोदी का नौ दिनी उपवास शुरू

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends