Headline



बिहार के इस जिला के चावल से अयोध्या में रामलला का भोग लगने वाला प्रसाद बनेगा

Medhaj News 28 Nov 19 , 06:01:39 India
rice_ll.jpg

बिहार के कैमूर जिला के मां मुंडेश्वरी पहाड़ी के नीचे स्थित मोकरी गांव गोविंद भोग चावल (Govind Bhog Rice) से प्रसिद्ध है | यहीं के चावल से अयोध्या में रामलला (Lord Rama) का भोग लगने वाला प्रसाद बनेगा | बिहार राज्य न्यास परिषद के अध्यक्ष कुणाल किशोर ने इसकी पुष्टि कर दी है | इसकी घोषणा होते ही मोकरी गांव में खुशी का माहौल है | किसान बहुत खुश हैं | आपको बता दें कि यहां का चावल भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में भी जाता है | गोविंद भोग छोटे दाने का सुगंधित चावल होता है | ग्रामीणों का कहना है कि बारिश के मौसम में पहाड़ से पानी अनेकों जड़ी-बूटी को साथ लिए खेतों तक पहुंचता है | इसी कारण खेतों का मिट्टी बहुत ही मुलायम हो जाती है और चावल भी सुगंधित और मुलायम होता है | यह चावल मोकरी गांव के अलावा कहीं और उपजाया जाता है तो इस तरह की खुशबू और क्वालिटी नहीं मिलती है | यह गांव की मिट्टी की खासियत है |





आपको बता दें कि अयोध्या में भगवान के अलावा भक्तों के लिए भोजन प्रसाद भी इसी चावल से ही बनेगा | इसके लिए 60 क्विंटल चावल अयोध्या भेजा गया है | महावीर मंदिर न्यास के प्रमुख आचार्य किशोर कुणाल ने कहा - अयोध्या में राम रसोई की शुरुआत होने जा रही है | इसके लिए 60 क्विंटल गोविंद भोग और कतरनी चावल अयोध्या भेजा गया | कुणाल ने कहा कि सभी चावल कैमूर के मोकरी गांव से मंगवाया गया है | राम रसोई और भगवान के भोग की सेवा लगातार चलती रहेगी | उन्होंने कहा कि इसके लिए अयोध्या के मुख्य पुजारी से बात हो चुकी है | उन्होंने कहा कि बिहार में पहले से ही सीतामढ़ी में सीता रसोई चल रही है | यहां दिन में 500 लोग और रात में 200 लोगों को मुफ्त में भोजन कराया जाता है | इसी क्रम में अयोध्या में भी राम रसोई शुरू होने जा रही है | यहां शुरुआती दौर में प्रतिदिन एक हजार लोगों के भोजन करने की संभवना है | इसके बाद में राम भक्तों की बढ़ती संख्या के आधार पर ज्यादा से ज्यादा लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था की जाएगी |


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends