Headline



19 अक्टूबर 2018, विजयादशमी के दिन ही तेज रफ्तार ट्रेन 59 लोगों को रौंदते हुए निकल गई थी

Medhaj News 8 Oct 19 , 06:01:39 India
amritsar_2.png

शहर स्थित जोड़ा फाटक, 19 अक्टूबर 2018, विजयादशमी (VijayaDashmi) का दिन, लोगों की भीड़ रावण दहन देख रही थी | इसी दौरान एक तेज रफ्तार ट्रेन (Train) आई और 59 लोगों को रौंदते हुए निकल गई | देखते ही देखते उत्सव मातम में बदल गया | आज उस बात को पूरा एक साल गुजरने को आया लेकिन अभी तक मृतकों के परिजन न्याय की आस में दर-दर भटक रहे हैं | ऐसे ही पीड़ितों ने मंगलवार को जोड़ा फाटक पहुंच कर प्रदर्शन किया | इस दौरान नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) और उनकी पत्नी नवजोत कौर सिद्धू के विरोध में लोगों ने जमकर प्रदर्शन किया | प्रदर्शनकारी सिद्धू और उनकी पत्नी के खिलाफ नारेबाजी करते हुए जोड़ा फाटक की तरफ बढ़े लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया |





ऐसे में सभी रास्ते में ही रुक गए और वहीं पर प्रदर्शन किया | प्रदर्शनकारियों का कहना था कि पिछल एक साल से इंसाफ की मांग की जा रही है | हादसे की जिम्मेदार व्यक्ति को अभी तक सजा नहीं दी गई |  अमृतसर से विधायक सिद्धू और उनकी पत्नी ने हादसे के बाद बड़े-बड़े वादे किए थे लेकिन सरकार ने पांच लाख रुपये देकर पल्ला झाड़ लिया | वह भी सभी पीड़ितों को नहीं मिले | प्रदर्शनकारियों के साथ अकाली दल के नेता विक्रम मजीठिया भी पहुंचे थे | वहीं अमृतसर के डीसीपी जगमोहन सिंह ने कहा कि हमने रेलवे अधिकारियों को रेल ट्रेक पर व्यवस्‍था दुरुस्त रखने के लिए कहा है | साथ ही पुलिस की टीमें भी रेलवे पटरियों के आस पास मौजूद रहेंगी और लोगों को रेलवे ट्रेक पर जाने से रोकेंगी | साथ ही इस साल रावण दहन का कोई भी कार्यक्रम रेलवे पटरियों के आसपास आयोजित नहीं किया जा रहा है |


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends