Headline



क्या होगा इमरान खान का जमायत उलेमा-ए-इस्लाम के आगे ?

Medhaj News 6 Oct 19,16:20:02 World
fazlur_rahman_and_imran_kha.jpg

जमायत उलेमा-ए-इस्लाम (JUI-F) के प्रमुख फजलुर रहमान ने अपने 'आजादी' मार्च को सरकार के खिलाफ 'जंग' करार दिया | उन्होंने पेशावर में एक प्रेस वार्ता में पत्रकारों से कहा - पूरा देश हमारा युद्धक्षेत्र(वॉरजोन) होगा | इस दौरान जेयूआई-एफ नेता ने सरकार के खिलाफ 27 अक्टूबर को एक मार्च निकालने की घोषणा की | उन्होंने कहा कि मार्च का समापन राजधानी में होगा और पार्टी की यहां धरना-प्रदर्शन करने की योजना है | उन्होंने कहा - हमारी रणनीति एकसमान नहीं रहेगी | हम किसी भी स्थिति से निपटने के लिए इसमें बदलाव करते रहेंगे | पूरे देश से लोगों का जनसैलाब इस मार्च में भाग लेने आ रहा है और फर्जी शासक इसमें एक तिनके की तरह डूब जाएंगे |





यह पूछे जाने पर कि क्या उन्हें इसके लिए अन्य विपक्षी पार्टियों का समर्थन मिल रहा है,उन्होंने कहा -  मैं उन्हें मार्च में देखने की उम्मीद करता हूं | सभी पार्टियां इस बात को लेकर सहमत हैं कि बीते वर्ष हुआ चुनाव फर्जी था और दोबारा चुनाव कराए जाने चाहिए, उन्हें निश्चित ही हमारे मार्च में शामिल होना चाहिए | रहमान ने प्रेस वार्ता में कहा कि वह गिरफ्तारी से डरे हुए नहीं है, ऐसा कोई भी कदम प्रदर्शनकारियों के आक्रोश को सरकार के खिलाफ और बढ़ा देगा | रहमान से जब पूछा गया कि सरकार का दावा है कि आप मदरसों में पढ़ रहे बच्चों का सरकार के खिलाफ इस्तेमाल कर रहे हैं, इस पर उन्होंने कहा - सरकार छात्रों को उनके लोकतांत्रित अधिकारों से वंचित करने का प्रयास कर रही है | मदरसों में पढ़ने वाले बहुत कम छात्र ही मार्च में भाग लेंगे, क्योंकि समाज के हर वर्ग से बड़ी संख्या में लोग मार्च में भाग लेने वाले हैं |


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends