Headline



कांग्रेस की भारत बचाओ रैली में बोलीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा

Medhaj News 14 Dec 19,20:21:31 World
priyanca.png

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने नागरिकता संशोधन कानून को लेकर शनिवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर तीखा हमला करते हुए अपील की कि संविधान को बचाने और देश को विभाजन से बचाने के लिए सभी आवाज उठाएं | प्रियंका ने कांग्रेस की ओर से आयोजित ''भारत बचाओ रैली" में कहा - यह देश प्रेम का देश है | अहिंसा का देश है | युवाओं के सपनों का देश है | यह ऐसा देश है जिसके फौजी देश के लिए जान देने का जज्बा रखते हैं | उन्होंने कहा - हमें इस देश को बचाना है क्योंकि इस पर एक ऐसी सरकार का साया है जिसमें समानता नहीं है | प्रियंका ने कहा - पहले पूरी दुनिया हमारी तरफ देख रही थी | विकास हो रहा था | आज भाजपा की सरकार में रोजगार बढ़ने की बजाय घट रहा है | महंगाई बढ़ रही है | छोटे और मझोले व्यापारी परेशान हैं |  उन्होंने कहा - असलियत यह है कि यदि भाजपा है तो 45 साल में सबसे ज्यादा महंगाई मुमकिन है | नागरिकता संशोधन कानून का हवाला देते हुए कांग्रेस महासचिव ने कहा - इस सरकार में ऐसे कानून बन रहे हैं जिससे देश का संविधान खतरे में है |





यह विभाजनकारी है | उन्होंने कहा - मैं कश्मीर से अरुणाचल तक सबसे कहना चाहती हूं कि आप अपनी आवाज उठाइये | अगर हम चुप रहेंगे तो आम्बेडकर द्वारा लिखा गया संविधान खत्म हो जाएगा और देश का बंटवारा जो जाएगा | प्रियंका ने कहा - आज चारों तरफ अन्याय है | महिलाएं असुरक्षित हैं | सभी को मिलकर भारत को बचाना है | हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि किसान बर्बाद हो रहा है | उसके लिए सभी कार्यकर्ता जमीन पर लड़ें | उल्लेखनीय है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी शनिवार को दिल्ली के रामलीला मैदान में ‘भारत बचाओ' रैली आयोजित कर रही है | इस रैली का उद्देश्य भाजपा सरकार की “विभाजनकारी” नीतियों को उजागर करना है | इस रैली में मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी, राहुल गांधी के अलावा राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और कांग्रेस के अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद हैं |


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends