पाक पीएम इमरान का झूठ बेनकाब, भारतीय एजेंसियों को पता चला मसूद अज़हर का ठिकाना

Medhaj News 18 Feb 20,16:20:38 World
masood_azhar123.jpeg

एक बार फिर से पड़ोसी देश पाकिस्तान का झूठ बेनकाब हुआ है। हाल ही में उसने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर के लापता होने की बात कही थी। मगर भारतीय एजेंसियों ने बताया है कि वह पाकिस्तान के बहावलपुर मुख्यालय के रेलवे लिंक रोड पर कड़ी सुरक्षा के बीच छिपकर रह रहा है। हालांकि पाकिस्तान सरकार का कहना है कि उसे अजहर के ठिकाने की जानकारी नहीं है। जबकि सच ये है कि आतंकी ऐसे घर में रह रहा जिसपर बम हमला भी बेअसर होगा।

एजेंसियों को मसूद अजहर के अन्य तीन ठिकानों के बारे में पता चला है जो उसी प्रांत में हैं। यह बहावलपुर के कैसर कॉलोनी, खैबर पख्तूनख्वा के बन्नू में मदरसा बिलाल हब्शी और लक्की मारवत का मदरसा मस्जिद-ए-लुकमान में स्थित हैं। यह जानकारी इसलिए भी काफी प्रासंगिक हो जाती है क्योंकि वित्तीय कार्रवाई कार्यबल की रविवार को पेरिस में बैठक होनी है। कई रिपोर्ट्स के अनुसार पाकिस्तान कह सकता है कि मसूद अजहर लापता है।





जैश द्वारा पिछले साल फरवरी में अंजाम दिए गए पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान को डोजियर सौंपा था। जिसके अनुसार 2016 में पठानकोट एयरबेस पर किए गए जैश के हमले की जांच के दौरान पाए गए मोबाइल नंबरों में से एक सीधे तौर पर बहावलपुर आतंकी फैक्ट्री से जुड़ा हुआ था। अजहर भारत में कई आतंकी घटनाओं का मास्टरमाइंड है। खुफिया सूत्रों के अनुसार अजहर का स्वास्थ्य काफी खराब है। जिसकी वजह से उसके भाई अब्दुल रौफ असगर ने आतंकी संगठन जैश की जिम्मेदारी ले ली है।

भारतीय अधिकारियों के अनुसार, आतंकी अल्वी पुलवामा और पठानकोट में हमलों के लिए जिम्मेदार है। इन दोनों आतंकी हमलों के वक्त जैश का ऑपरेशनल हेड वही था। पठानकोट हमला एक ओर जहां भारतीय और पाकिस्तानी नेताओं के बीच उभरती हुई दोस्ती-अमन को तोड़ने के लिए किया गया था, वहीं अल्वी के परिजनों आतंकी तलहा रशीद और उस्मान हैदर की मौत के लिए बदले के लिए पुलवामा हमले को अंजाम दिया गया था। बता दें कि पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

दुनिया को गुमराह करने की साजिश

पाक की कोशिश है कि मसूद अजहर को लापता बताकर भारत और पूरी दुनिया को गुमराह किया जाए। इससे पाक के एफएटीएफ की काली सूची में शामिल किए जाने का खतरा खत्म हो जाएगा और चीन की मदद से वह ग्रे लिस्ट से भी बाहर आ जाएगा। आतंकवाद को मुहैया कराए जाने वाले धन की निगरानी करने वाली अंतरराष्ट्रीय निगरानी संस्था एफएटीएफ का अध्यक्ष अभी चीन से ही है।

हाफिज सईद को रिहा करेगा पाक

पाक की आतंकवाद निरोधक अदालत ने मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को 11 साल जेल की सजा सुना दी थी। जानकारों का मानना है कि एफएटीएफ की बैठक खत्म होने के बाद पाक फिर अपनी नापाक चाल दोहराएगा और हाफिज सईद को रिहा कर देगा।  सोमवार से शुरू हो रही बैठक में यह देखा जाएगा आतंक से लड़ने के लिए उसने पर्याप्त कदम उठाए हैं या नहीं।



 


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends