Headline


फरीदाबाद: महिलाओ ने पैसो के लिए एक ही वर्ष में कई बार गर्भवती दिखाया

Medhaj News 30 May 19,21:37:29 Tour
pregnancy.jpg

हरियाणा के फरीदाबाद क्षेत्र की कंपनियों में काम करने वाली बहुत सारी महिलाएं साल में चार-चार बार तक गर्भवती हुईं हैं | यह बात अविश्वनीय लगी तो इसकी सीबीआई जांच शुरू हो गई | पता चला कि मातृत्व अवकाश के नाम पर 10 करोड़ का घोटाला हुआ है | इस पूरे मामले में अब तक 9 लोग सस्पेंड हो चुके हैं | जांच में पता चला कि प्राइवेट कंपनियों में काम करने वाली कई महिलाओं ने एक साल में चार-चार बार मातृत्व अवकाश लिया | अब तक इस मामले में कर्मचारी राज्य बीमा निगम के तीन ब्रांच मैनेजर और छह कर्मचारियों को निलंबित किया गया है | बताया जा रहा है कि निगम के डॉक्टरों ने मातृत्व अवकाश देने के लिए फर्जी सर्टिफिकेट जारी किए | वास्तव में फरीदाबाद इलाके की निजी कंपनियों और फैक्ट्रियों में काम करने वाली महिलाओं के वेतन से ईएसआइसी के मद में पैसे काटे जाते हैं | इसके बदले महिलाओं को ईएसआइसी के अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं मिलती हैं | इनके वेतन से कटे पैसे ईएसआइसी के खाते में जमा होते हैं |  ईएसआइसी कार्ड वाली महिलाओं को बच्चा होने पर 84 दिन का मातृत्व अवकाश (पूरे वेतन के साथ) दिया जाता है | ऐसी ही सुविधा गर्भपात (कम से कम तीन माह की गर्भवती) कराने वाली महिलाओं को मिलती है | गर्भपात कराने वाली महिला को 42 दिन का (सवेतन) अवकाश की सुविधा है | इस अवकाश का पैसा निगम की ओर से महिला के बैंक खाते में डाला जाता है | जांच में पता चला कि कुछ महिलाओं ने सुविधा का लाभ उठाने के लिए अपने नियोक्ता संस्थान के अधिकारियों और डॉक्टरों से मिलीभगत की और खुद को एक ही वर्ष में कई बार गर्भवती दिखाया | इस तरह फर्जी दस्तावेजों से मातृत्व अवकाश के नाम पर 10 करोड़ से ज्यादा की गड़बड़ी होने का अनुमान है |

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...

    Similar Post You May Like

    Trends