Headline



घर में मिली जीत को हल्के में नहीं आंकना चाहिए- अनिल कुंबले

Medhaj News 9 Oct 19 , 06:01:39 Sports
anil_kulble.jpg

अनिल कुंबले (Anil Kumble) ने कहा - जब मैं क्रिकेट खेला करता था, तब भी ये चुनौती थी | मतलब जब भी भारतीय टीम (Indian Team) घरेलू जमीन पर खेलती है तो उसकी जीत को हल्के में लिया जाता है, जबकि आप विदेश में हारते हैं तो ये कहा जाता था कि इस तरह के मैच आपको जीतने चाहिए थे | आगे अनिल कुंबले ने टेनिस का उदाहरण देते हुए कहा कि किसी को इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि आप कहां जीत रहे हैं | बेशक कुछ खिलाड़ी क्ले कोर्ट चैंपियन होते हैं तो कुछ का ग्रास कोर्ट पर दबदबा होता है, लेकिन वे सभी चैंपियन होते हैं | कोई ये नहीं कहता कि फलां खिलाड़ी ने फलां टूर्नामेंट नहीं जीता तो वो संपूर्ण चैंपियन नहीं है | ये सभी महान खिलाड़ी हैं | आपको समान अहमियत मिलनी जरूरी है |





मुझे खुशी है कि आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप के बाद से ऐसा हो रहा है | कोई भी अब घर में मिली जीत को हल्के में नहीं ले रहा है | एक खिलाड़ी के तौर पर आपको एक टेस्ट मैच को टेस्ट मैच की तरह ही देखना चाहिए न कि आपका ध्यान इस बात पर रहना चाहिए कि आप कहां खेल रहे हैं | आपको टेस्ट मैच के दौरान अहम मौकों की पहचान करनी होगी और उन्हें अपने पक्ष में करना होगा. यही सबसे खास बात है | अनिल कुंबले ने कहा कि मगर मैं फिर भी यही कहूंगा कि किसी को भी घर में मिली जीत को हल्के में नहीं आंकना चाहिए | टीम इंडिया (Team India) के पूर्व कोच अनिल कुंबले (Anil Kumble) ने साथ ही विदेश में जीतने पर भी जोर दिया | उन्होंने कहा - अगर आप एक संपूर्ण टीम बनना चाहते हैं तो आपको सभी प्रारूपों में सभी देशों में निरंतर अच्छा प्रदर्शन करने की जरूरत है | मुश्किल समय में आप टीम से बेहतर रिस्पांस की उम्मीद करते हैं | अगर आप पांच साल का समय देखें और आपने सभी देशों में निरंतर अच्छा प्रदर्शन करते हुए सीरीज जीती है तो आप एक अच्छी टीम हैं |  बेशक आपको सिर्फ घरेलू हालात में किए गए प्रदर्शन के आधार पर नहीं आंका जाएगा | आपको भारत के बाहर, खासकर एशिया उपमहाद्वीप के बाहर भी बेहतर प्रदर्शन करना होगा |


    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like

    Trends