Headline



इस सदाबहार फल को लखनऊ रेलवे स्टेशन पर बैन कर दिया गया

Medhaj News 28 Aug 19 , 06:01:39 Sports
charbagh.jpg

देश को सफाई की अहमियत बताने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने कई कार्य किये जिसमे स्वच्छ भारत अभियान, हर घर शौचालय मुख्य है। इसी रह पर आगे बढ़ते हुए उत्तर प्रदेश प्रशासन ने लखनऊ रेलवे स्टेशन पर केले की बिक्री पर रोक लगा दिया है। उनका मानना है की इससे आस पास की जगहों पर गन्दगी फैलती है। फलों की बिक्री पर रोक किसी को भी रास नहीं आ रही है। फिर चाहे वो दुकानदार हो य यात्री।  बहती हुई नालियां, सड़क पर फैली गन्दगी किसी से छुपी नहीं है। लखनऊ में रेलवे अधिकारी केले से अधिक प्राथमिकता सफाई को देते नजर आ रहे हैं क्योंकि उनका ऐसा मानना है कि केले के छिलकों से गंदगी फैलती है और इसी के चलते रेलवे प्रशासन ने यहां चारबाग रेलवे स्टेशन पर फल की बिक्री पर रोक लगा दी है। प्रशासन ने इस बात की भी चेतावनी दी है कि यदि कोई इस नियम को तोड़ते हुए पाया जाएगा तो उसे जुर्माने सहित सख्त कार्रवाई का भी सामना करना होगा।





लखनऊ और कानपुर के बीच रोजाना रेलवे सफर करने वाले अरविंद नागर ने कहा, "केले सबसे सस्ते, स्वास्थ्यवर्धक और सुरक्षित फल हैं जिसका उपयोग कोई सफर के दौरान कर सकता है। यह कहना बेतुका है कि केले से गंदगी फैलती है. यदि यह सच है कि शौचालयों में भी प्रतिबंध लगा देना चाहिए क्योंकि सबसे ज्यादा गंदगी वहीं पैदा होती है। पानी की बोतलों और पैक किए हुए स्नैक्स पर भी प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए। केले के छिलके जैविक होते हैं और यह पर्यावरण के लिए नुकसान रहित होते हैं बल्कि इसके अलावा यह गरीबों के लिए पोषण का एक सस्ता स्रोत है।"

प्रशासन को रेलवे में फैली गन्दगी का विश्लेषण करना चाहिए और पता लगाना चाहिए कि किस चीज़ से आखिर सबसे ज्यादा गन्दगी फ़ैल रही है। ऊपर से देखने में पता लग जाता है की प्लास्टिक का कचरा, तम्बाकू, पान की पीक और इनके पैकेट्स और कूड़े का ढेर जो रेलवे स्टेशन के बाहर अक्सर पाया जाता है  इन सब पर किसी का ध्यान नहीं जाता।


    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like

    Trends