Headline


नौसेना में शामिल होने जा रहे इस विमान ने पूरी की अरेस्ट लैंडिंग

Medhaj News 13 Sep 19,23:44:38 Science & Technology
_lca_tejas_goa.jpg

स्वदेशी हल्के लड़ाकू विमान (LCA) तेजस का नौसेना के लिए तैयार किया गया संस्करण देश का पहला ऐसा विमान बन गया है, जिसने सफलतापूर्वक 'अरेस्ट लैंडिंग' की। अब तक कुछ ही लड़ाकू विमान 'अरेस्ट लैंडिंग' का कारनामा कर पाते हैं, जिन्हें अमेरिका, रूस, यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस और हाल ही में चीन ने विकसित किया है। तेजस भारत द्वारा विकसित किया जा रहा एक हल्का व कई तरह की भूमिकाओं निभाने वाला जेट लड़ाकू विमान है। यह हिन्दुस्तान एरोनाटिक्स लिमिटेड (HAL) द्वारा विकसित एक सीट और एक जेट इंजन वाला, अनेक भूमिकाओं को निभाने में सक्षम एक हल्का युद्धक विमान है। कई भूमिकाएं निभाने में सक्षम इस लड़ाकू विमान ने टेस्ट फैसिलिटी में लैंड करते वक्त झटके से रुकने के लिए अपने फ्यूसलेज से बंधे हुक की मदद से एक तार को पकड़ा। किसी भी विमान के लिए विमानवाहक पोत पर उतरने की खातिर बेहद कम दूरी में पूरी तरह रुक जाने में सक्षम होना काफी अहम होता है। गोवा में समुद्रतट पर स्थित टेस्ट फैसिलिटी में शुक्रवार को किया गया परीक्षण उन्हीं परिस्थितियों में किया गया, जो किसी विमानवाहक पोत पर रहती हैं, और जहां विमानों को उतरने के लिए डेक पर बंधे तार को पकड़ना पड़ता है. इसी क्रिया को 'अरेस्ट लैंडिंग' कहा जाता है।





LCA-N विकास टीम के जुड़े अहम सदस्यों ने बताया कि उन्होंने मई-जून के दौरान गोवा टेस्ट फैसिलिटी में 60 बार उड़ान भरी है। विमान को INS विक्रमादित्य के डेक पर पहुंचाने के लिए LCA-N के इंजीनियरों और पायलटों को इस बात के प्रति आश्वस्त होना होगा कि विमान 7.5 मीटर प्रति सेकंड (1,500 फुट प्रति मिनट) के 'सिंक रेट' (नीचे आने की गति) से क्षतिग्रस्त हुए बिना पोत पर पहुंच सकता है. प्रोजेक्ट से जुड़े इंजीनियरों तथा पायलटों को भरोसा है कि वे लैंडिंग सर्टिफिकेशन के लक्ष्य को हासिल कर लेंगे। इस प्रोजेक्ट से जुड़ी एक बड़ी तकनीकी चिंता है, जो LCA-N के विकास कार्यक्रम पर असर डाल सकती है। INS विक्रमादित्य पर विमान के लैंड करते ही उसकी गति घटा देने वाला मैकेनिकल सिस्टम, यानी अरेस्टर गियर, उस अरेस्टर गियर से डिज़ाइन के लिहाज़ से काफी अलग है, जो गोवा की टेस्ट फैसिलिटी में लगा हुआ है। LCA-N प्रोजेक्ट टीम के अहम सदस्य उम्मीद कर रहे हैं कि इस अंतर से प्रोजेक्ट पर असर नहीं पड़ेगा, लेकिन आश्वस्त वे तभी हो सकेंगे, जब वास्तव में पोत पर लैंडिंग कर ली जाएगी।



 


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends