Headline



बदलने वाला है सिम से जुड़ा ये नियम, यहां जानें काम की खबर

Medhaj News 11 Dec 19 , 06:01:39 Business & Economy
sim.jpg

टेलिकॉम रेगुलेटरी ऑथेरेटी ऑफ इंडिया (TRAI) ने संशोधित मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी (एमएनपी) (mobile number portability process) प्रक्रिया के लिए मंगलवार (10 दिसंबर) को सार्वजनिक नोटिस जारी किया है | इससे 16 दिसंबर से पोर्टिंग की प्रक्रिया तेज और आसान हो जाएगी | एमएनपी (MNP) के तहत कोई भी यूज़र अपने ऑपरेटर (mobile operator) को आसानी से बदल सकता है और अपना मोबाइल नंबर एक ही रख सकता है | नई प्रक्रिया यूनीक पोर्टिंग कोड (UPC) का क्रिएशन करने की शर्त के साथ लाई गई है | नए नियम के तहत अब सर्विस एरिया के अंदर अगर कोई पोर्ट कराने के आग्रह करता है तो उसे 3 वर्किंग डे में पूरा करना होगा | वहीं एक सर्किल से दूसरे सर्किल में पोर्ट के आग्रह को 5 वर्किंग डे में पूरा करना होगा | ट्राई ने स्पष्ट किया है कि कॉरपोरेट मोबाइल कनेक्शनों की पोर्टिंग की समयसीमा में कोई बदलाव नहीं किया गया है |





ट्राई ने कहा कि एमएनपी प्रक्रिया में संशोधन किया गया है | संशोधित एमएनपी प्रक्रिया में यूपीसी तभी बनेगा, जबकि ग्राहक अपने मोबाइल नंबर को पोर्ट करने के पात्र होगा | संशोधित एमएनपी प्रक्रिया 16 दिसंबर से लागू होगी |  मोबाइल उपभोक्ता यूपीसी का क्रिएट कर सकेंगे और मोबाइल नंबर पोर्टिंग प्रक्रिया का लाभ उठा सकेंगे | नई प्रक्रिया के नियम तय करते हुए ट्राई (TRAI) ने कहा कि अलग अलग शर्तों के पॉज़िटिव अनुमोदन से ही यूपीसी का क्रिएट किया जा सकेगा | उदाहरण के लिए पोस्ट पेड मोबाइल कनेक्शनों के मामले में ग्राहक को अपने बकाया के बारे में संबंधित आपरेटर से प्रमाणन लेना होगा | इसके अलावा मौजूदा आपरेटर के नेटवर्क पर उसे कम से कम 90 दिन तक एक्टिव भी रहना होगा | लाइसेंस वाले सेवा क्षेत्रों में यूपीसी चार दिन के लिए वैलिड होगा | वहीं जम्मू-कश्मीर, असम और पूर्वोत्तर सर्किलों में यह 30 दिन तक वैलिड रहेगा |


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends