Headline

टेलिकॉम इतिहास में यह पहली बार , बीएसएनएल की हालत ख़राब, अटकी सैलरी

Medhaj News 13 Mar 19 , 06:01:39 Business & Economy
bsnl_1_1.jpg

आर्थिक संकट की वजह से सरकारी टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल (भारत संचार निगम लिमिटेड) के 1.76 लाख कर्मचारियों को फरवरी महीने की सैलरी अब तक नहीं मिली है | टेलिकॉम इतिहास में यह पहली बार है जब बीएसएनएल के कर्मचारियों की सैलरी अटक गई है | बीएसएनएल की यह हालत प्राइवेट टेलिकॉम  कंपनियों की प्राइस वॉर है | बीएसएनएल के कर्मचारियों पर हर माह 1200 करोड़ रुपये खर्च होते हैं | यह कंपनी की कुल आमदनी का 55 फीसदी हिस्सा होता है | जबकि हर साल इस बजट में 8 फीसदी की बढ़ोत्तरी हो जाती है | इसका मतलब ये हुआ कि वेतन पर कंपनी का खर्च लगातार बढ़ता जा रहा है जबकि आमदनी लगातार गिर रही है |





बीएसएनएल के कर्मचारियों के संगठन ऑल यूनियन एंड एसोसिएशन ऑफ बीएसएनएल ने संचार मंत्री मनोज सिन्हा को चिट्ठी लिखी है | कंपनी ने मंत्री से मामले में दखल देने की गुजारिश की है | कर्मचारियों के मुताबिक मोदी सरकार बीएसएनएल को बंद करने की साजिश कर रही है | टेलिकॉम इंडस्‍ट्री के एक्‍सपर्ट बीएसएनल के इस हालात की वजह मार्केट में प्राइस वॉर को बता रहे हैं | 2016 में रिलायंस जियो की एंट्री के बाद से ही प्राइस वॉर तेज हुई और प्राइवेट कंपनियों ने अपने प्लान सस्ते कर दिए | कई कंपनियों ने विलय कर लिया तो कुछ कंपनियां टेलिकॉम इंडस्‍ट्री के कारोबार को समेटने पर मजबूर हुईं | इस जंग में सरकार की कंपनी बीएसएनल भी शामिल हो गई लेकिन इस दौरान उसकी आर्थिक सेहत पर असर पड़ा |    


    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like