Headline



महाराष्ट्र में शिकस्त के बाद यह उपचुनाव भाजपा के लिए प्रतिष्ठा का सवाल

Medhaj News 5 Dec 19 , 06:01:39 India
rajasthan_election.jpg

कर्नाटक की 15 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए सुबह 7 बजे मतदान शुरू हो गया। इसे राज्य का मिनी विधानसभा चुनाव माना जा रहा है, क्योंकि भाजपा को सरकार बचाने के लिए हर हाल में 6 सीटें जीतनी होंगी। ऐसा नहीं होने पर येदियुरप्पा सरकार गिरने का संकट पैदा हो जाएगा। परिणाम 9 दिसंबर को आएंगे। उपचुनाव में भाजपा, कांग्रेस और जेडीएस अलग-अलग चुनाव लड़ रही हैं। इन 15 सीटों पर कुल 165 उम्मीदवार मैदान में हैं। इनमें 126 निर्दलीय और केवल 9 महिला प्रत्याशी हैं। महाराष्ट्र में शिकस्त के बाद यह उपचुनाव भाजपा के लिए प्रतिष्ठा का सवाल है। वहीं, कांग्रेस के लिए खोई जमीन वापस पाने और जेडीएस के लिए किंगमेकर बनने का मौका है। कांग्रेस और जेडीएस ने विधासभा चुनाव अलग-अलग लड़ा था। इसके बाद गठबंधन सरकार में कुमारस्वामी मुख्यमंत्री बने थे।





आपको बता दे कि कांग्रेस और जेडीएस के 17 विधायकों ने तत्कालीन मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के फ्लोर टेस्ट से पहले इस्तीफा दे दिया था। तब के स्पीकर केआर रमेश कुमार ने इस्तीफा स्वीकार न करते हुए सभी विधायकों को अयोग्य घोषित कर दिया था। इसलिए 15 सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं। दो सीटों मस्की और राजराजेश्वरी नगर पर कर्नाटक हाईकोर्ट में मामला लंबित है। इसलिए यहां चुनाव बाद में होंगे।चुनाव आयोग के मुताबिक, 15 सीटों पर उपचुनाव में 37 लाख 50 हजार से ज्यादा मतदाता शामिल होंगे। इसमें 19.12 लाख पुरुष और 18.37 लाख महिलाएं हैं। उपचुनाव के लिए 4185 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं। मतदान के लिए में ईवीएम के साथ वीवीपैट का भी इस्तेमाल होगा। कर्नाटक विधानसभा में कुल 224 सीटें हैं। 17 विधायकों को अयोग्य ठहराने के बाद विधानसभा सीटें 207 रह गईं। इस लिहाज से बहुमत के लिए 104 सीटों की जरूरत थी। भाजपा (105) ने एक निर्दलीय के समर्थन से सरकार बना ली। 15 सीटों पर उपचुनाव होने के बाद विधानसभा में 222 सीटें हो जाएंगी। उस स्थिति में बहुमत का आंकड़ा 111 होगा। भाजपा को सत्ता में बने रहने के लिए कम से कम 6 सीटों की जरूरत होगी।


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends