किलोग्राम मापने का तरीका बदला

Medhaj news 17 Nov 18 , 06:01:38 Ajab Gajab
vate.jpg

अब तक एक किलोग्राम की जो परिभाषा बताई जाती थी, वो बदल गई है। हालांकि ध्यान देने वाली बात यह है कि एक किलोग्राम वजन में तनिक भी बदलाव नहीं हुआ है। ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि फिर इसकी परिभाषा बदलने की क्या जरूरत थी। तो परेशान होने की जरूरत नहीं हम आपको बताते हैं। साथ ही यह भी जान लीजिए कि नई परिभाषा कैसे तय की गई है।

20 मई से नई परिभाषा लागू हो जाएगी। किलोग्राम को एक बेहद छोटे मगर अचल भार के जरिए परिभाषित किया जाएगा। इसके लिए "प्लैंक कॉन्स्टेंट" का इस्तेमाल किया जाएगा। नई परिभाषा के लिए वजन मापने का काम किब्बल नाम का एक तराजू करेगा। अब इसका आधार प्लेटिनम इरीडियम का सिलिंडर नहीं होगा। इसकी जगह यह प्लैंक कॉन्स्टेंट के आधार पर तय किया जाएगा। क्वांटम फिजिक्स में प्लैंक कॉन्स्टेंट को ऊर्जा और फोटॉन जैसे कणों की आवृत्ति के बीच संबंध से तैयार किया जाता है। 

आज पहली बार पीएम मोदी जा रहे है मालदीव, शपथ ग्रहण समारोह में होंगे शामिल

किलोग्राम को मापने के पुराने सिस्टम में किलो का वजन गोल्फ की गेंद के आकार की प्लेटिनिम इरिडियम की गेंद के सटीक वजन के समान होता है। यह गेंद कांच के जार में पेरिस के पास वर्साय की ऑर्नेट बिल्डिंग की सेफ में रखी हुई है।इस सेफ तक पहुंचने के लिए उन तीन लोगों की जरूरत होती है, जिनके पास तीन अलग अलग चाभियां हैं। ये तीनों लोग तीन अलग-अलग देशों में रहते हैं। इन चाभियों की मदद से ही इस सेफ को खोला जा सकता है। इसकी निगरानी इंटरनेशनल ब्यूरो ऑफ वेट्स एंड मेजर्स करती है।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...

    Similar Post You May Like